अल्मोड़ाउत्तराखंड

अल्मोड़ा : कोरोना काल में भी कायम रही संस्कृति, मां नंदा—सुनंदा के जयकारों के साथ निकली डोला यात्रा

अल्मोड़ा सांस्कृतिक नगरी अल्मोड़ा में पौराणिक नंदा देवी मेले का भव्य समापन हो गया है। आज यहां ऐतिहासिक नंदा देवी मंदिर से मांनंदा—सुनंदा की यात्रा निकाली गई। संपूर्ण अल्मोड़ा बाज़ार होते हुए यह यात्रा दुगालखोला स्थित डोबानौला पहुंची। जहां मां नंदा—सुनंदा का विधिवत विसर्जन किया गया।
मां नंदा—सुनंदा की डोला यात्रा में बड़ी संख्या में श्रद्धालु शामिल हुए। इस दौरान पूरा बाजार मां के जयकारों से गूंज उठा। डोला उठने से पहले ही मंदिर परिसर को पूरी तरह से सैनेटाइजर किया गया। उसके बाद मंदिर परिसर से डोला उठा, जो मुख्य बाजार होते हुए बसंल गली, शिखर तिराहा होते हुए ड्योड़ी पोखर पहुंचा। जहां राज परिवार की युवरानी कामाक्षी सिंह एवं उनके परिजनों द्वारा आरती व पूजा अर्चना की गई। इसके बाद सीढ़ी बाजार, कारखाना बाज़ार, कचहरी बाज़ार, खचांजी मोहल्ला, गंगोला मोहल्ला, थाना बाज़ार होते हुए दुगालखोला स्थिति डोबानौला में नंदा—सुनंदा की मूर्ति का विसर्जन किया गया। हालांकि कोरोना संक्रमण के चलते मेले में भीड़ अन्य सालों की अपेक्षा काफी कम थी। वहीं इस बार नंदा—सुनंदा के डोले का आकार भी अन्य वर्षों से इस वर्ष लघु स्वरूप में था। बावजूद इसके, पूरे विधि विधान से मां—नंदा सुनंदा के जयकारों को साथ मां नंदा—सुनंदा का डोला उठाया गया। यात्रा के दौरान लोगों ने अपने-अपने घरों से ही मां नंदा सुनंदा के दर्शन किये। नंदा सुंनदा की शोभा यात्रा में शोभा यात्रा में काशीपुर से आये राज परिवार के कुंवर नरेंद्र चंद्र सिंह, धीरेन्द्र सिंह (राजा भय्या) के अलावा मंदिर समिति के अध्यक्ष मनोज वर्मा, मेला संयोजक मनोज सनवाल, ताराचंद्र जोशी, अनूप साह, नगर पालिका अध्यक्ष प्रकाश जोशी, पूर्व विधायक मनोज तिवारी, बिट्टू कर्नाटक, सांसद अजय टम्टा, व्यापार मण्डल के अध्यक्ष सुशील साह, मनोज बिष्ट, मुन्ना वर्मा, अमरनाथ सिंह नेगी, एलके पंत, हरीश बिष्ट, अतुल कुमार, दिनेश गोयल, किशन गुररानी, अर्जुन सिंह बिष्ट, जीवन गुप्ता, जीवन नाथ वर्मा, ललित मोहन शाह, मुख्य पुजारी लीलाधर जोशी तारा दत्त जोशी के अलावा के अलावा नगर कोतवाल हरेन्द्र चैधरी पुलिस टीम के साथ थे।

Leave a Comment!

error: Content is protected !!