अल्मोड़ाउत्तराखंड

खुशखबरी : बंदरों के आतंक से मिलेगी राहत, पालिका ने उठाया कदम, 19 व 20 अगस्त को पकड़े जाएंगे बंदर

अल्मोड़ा, 11 अगस्त। नगर को बंदरों की विकट समस्या से राहत दिलाने के लिए पालिका ने फिर कदम उठाया है। गत सालों की भांति फिर बंदर पकड़े जाएंगे और उनका बधियाकरण किया जाएगा। ऐसा वृहस्पतिवार को विभिन्न विभागों की पालिका के साथ हुई बैठक में तय ​कर लिया गया है। इस दफा पहला चरण 19 अगस्त से चलेगा। दो दिन बंदर पकड़े जाएंगे और 21 अगस्त को बंधियाकरण किया जाएगा।
बंदरों की समस्या से निजात दिलाने के लिए वृहस्पतिवार को पालिकाध्यक्ष प्रकाश चन्द्र जोशी की अध्यक्षता में पालिका कार्यालय में पशुपालन विभाग, वन विभाग, छावनी परिषद व नगर पालिका की साझा बैठक हुई। जिसमें चर्चा के बाद निर्णय लिया गया कि सप्ताह में एक बार बंदरों का बंध्याकरण का कार्य किया जायेगा। इस बीच आगामी 21 अगस्त 2020 से बन्ध्याकरण का काम शुरू होगा। इसके लिए 19 एवं 20 अगस्त 2020 को पालिका क्षेत्र में बन्दर पकड़े जायेंगे। जिन पर प्रति बन्दर 550 रूपये का व्यय आंका गया है। जिसका भुगतान नगर पालिका परिषद करेगी। जिसकी प्रतिपूर्ति बाद में वन विभाग द्वारा की जायेगी। वहीं बंध्याकरण कार्य के लिए आने वाले डा. योगेश शर्मा के आने—जाने के खर्चे का भुगतान पालिका करेगी। यह भी तय हुआ कि छावनी परिषद क्षेत्र में पकड़े गये बन्दरों के बन्ध्याकरण का व्यय का भुगतान छावनी परिषद करेगी।
बैठक में वन विभाग से अनुरोध किया गया कि बन्दरों के बन्ध्याकरण के लिए एक सक्षम चिकित्सक स्थाई रूप से संविदा अथवा पूर्णकालिक रूप से अल्मोड़ा में तैनात करवाने के लिए स्तर से अपेक्षित कार्यवाही करे। बैठक में पालिकाध्यक्ष प्रकाश चन्द्र जोशी ने पालिका के सम्बन्धित कर्मचारियों को यथाशीघ्र आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिये। बैठक में पालिकाध्यक्ष प्रकाश चन्द्र जोशी, प्रभागीय वनाधिकारी केएस रावत, मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी डा. आर. चन्द्रा, पालिका के अधिशासी अधिकारी श्याम सुन्दर प्रसाद, स्वच्छता निरीक्षक राजेश विष्ट, सफाई निरीक्षक लक्ष्मण सिंह भण्डारी, वन पर्यवेक्षक रूप सिंह, वन रक्षक हरीश चन्द्र, मुख्य पर्यावरण पर्यवेक्षक राजपाल पवार, कार्यालय अधीक्षक मुकेश भण्डारी उपस्थित थे ।
पहले भी हो चुके प्रयास :— उल्लेखनीय है कि अल्मोड़ा नगर में बन्दरों के आतंक से निजात दिलाने के लिए पालिका लगातार प्रयास करते आई है। पूर्व में वन विभाग, पशुपालन विभाग व छावनी परिषद के सहयोग से बन्दर पकड़े जा चुके हैं और उनका बन्ध्याकरण भी किया गया है। वर्ष 2018 में 272 बन्दर पकड़े गये। वर्ष 2019 में 123 बन्दर पकड़े और इसके अतिरिक्त 40 बन्दर छावनी परिषद क्षेत्र में पकड़े गये। पूर्व में पशु चिकित्सक डा. योगेश शर्मा के स्थानान्तरण के कारण बन्ध्याकरण का काम स्थगित करना पड़ा और कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन अवधि में बन्ध्याकरण का काम बाधित रहा है।

Leave a Comment!

error: Content is protected !!