— सांस्कृतिक प्रस्तुतियों की धूम जारी, कलाकार बटोर रहे तालियां

सीएनई रिपोर्टर, बागेश्वर: उत्तरायणी कौतिक में जहां कलाकार कला का जादू बिखेर रहे हैं। वहीं, स्कूली बच्चों के हुनर की भी तारीफ हो रही है। कला को लेकर बच्चे भी अब सजिंदा होने लगे हैं। मेले में जिले के लगभग प्रत्येक विद्यालय से बच्चे कार्यक्रम पेश कर रहे हैं। लोग बच्चों को नकद ईनाम भी दे रहे हैं। जिससे उन्हें ऊर्जा के साथ ही प्रेरणा भी मिल रही है।

Advertisement

शुक्रवार को नुमाइशखेत मैदान पर सुबह से ही सांस्कृतिक कार्यक्रमों की धूम मची रही। कलाकारों ने आवाज के जादू से मेलार्थियों का भरपूर मनोरंजन किया। महर्षि विद्या मंदिर बिलौना, न्यू सैनिक जूनियर हाइस्कूल कठायतबाड़ा, राजकीय प्राथमिक विद्यालय बहुली के बच्चों ने कुमाऊंनी, गढ़वाली, हिंदी और अंग्रेजी गीत, नृत्य पेश किए। वहीं, श्रीराम सांस्कृतिक एवं सामाजिक सेवा समिति अल्मोड़ा के कलाकारों ने कुमाऊंनी गीत, जागर आदि विधाओं से मेले में चार चांद लगाए। इसके अलावा देवभूमि सांस्कृतिक लोक कला मंच मिहिनिया, जय पाथावर ग़ढ़ सांस्कृतिक कला मंच गैरसैंण, कुमाऊं उत्तथान समिति खर्कटटा, जिला दिव्यांग पुनर्वास केंद्र के कलाकारों ने भी बेहतरीन संगीत और गीतों का गायन किया। सक्षम डांस ग्रुप के कलाकारों ने नृत्य के जरिए तालियां बटोरी।
कपकोट में उत्तरायणी कौतिक संपन्न

कपकोट: मां बाराही देवी मंदिर परिसर पर आयोजित पांच दिवसीय उत्तरायणी मेले का रंगारंग समापन हो गया है। इस दौरान स्कूली बच्चों की विभिन्न प्रतियोगिताएं भी आयोजित की गई। अव्वल रहे बच्चों को पुरस्कृत किया गया। नगर पंचायत अध्यक्ष गोविंद सिंह बिष्ट ने मेले के शांतिपूर्ण समापन पर तहसील प्रशासन और मेलार्थियों का आभार व्यक्त किया। इस दौरान पूर्व जिपंअ हरीश ऐठानी ने माघी खिचड़ी का आयोजन किया। इस मौके पर उपजिलाधिकारी मोनिका, गोविंद ऐठानी क्षेत्र पंचायत सदस्य भूपेश गढ़िया, हरीश सिंह, दयाल सिंह, डुंगर सिंह आदि उपस्थित थे। उधर, कर्मी और शामा में उत्तरायणी मेले की धूम मची हुई है।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here