सीएनई रिपोर्टर, देहरादून

फर्जी राशनकार्ड धारकों पर मुकदमा दर्ज किये जाने की चेतावनी का सार्थक असर दिखा है। अब प्रदेश के सभी जनपदों में जुगाड़ व गलत दस्तावेज प्रस्तुत कर राशनकार्ड बनवा चुके लोग अपने—अपने कार्ड जमा कर रहे हैं। प्रदेश में अब तक 3167 राशनकार्ड अपात्रों के जमा हो चुके हैं।

सबसे अधिक उधम सिंह नगर जनपद में तथा सबसे कम रुद्रप्रयाग में जमा हुए हैं। हालांकि शासन स्तर पर फिर चेतावनी दी गई है कि जल्द ही अपात्र लोगों ने अपने राशनकार्ड जमा नहीं किये तो उन पर कार्रवाई तय है। ऐसे लोगों के खिलाफ न केवल मुकदमा दर्ज होगा, बल्कि अब तक लिए गए राशन की वसूली भी की जायेगी।


ज्ञात रहे कि खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री रेखा आर्य के निर्देश पर ‘अपात्र को न, पात्र को हां’ अभियान चलाया गया है। मंत्री का कहना है कि गरीबों के हक का राशन ले रहे अपात्र राशन कार्ड धारकों के खिलाफ सरकार बड़ी कार्रवाई करने जा रही है। इनसे अब तक के राशन की रिकवरी के साथ ही इनके खिलाफ मुकदमा भी दर्ज किया जा सकता है। मंत्री की चेतावनी के बाद अब तक 03 हजार से ज्यादा लोगों ने अपने फर्जी राशन कार्ड जमा करा दिए हैं। इसमें सबसे ज्यादा 1 हजार 190 राशन कार्ड ऊधमसिंह नगर जिले से जमा हुए हैं। वहीं सबसे कम रुद्रप्रयाग में सिर्फ 06 राशन कार्ड अब तक जमा हो पाये हैं।

National Food Security Act (NFSA) and State Food Scheme (SFY) के तहत यह अपात्र कार्ड जमा हुए हैं। अब तक जमा हुए राशन कार्डों में चमोली में 155, पौड़ी गढ़वाल में 250, उत्तरकाशी में 22, टिहरी गढ़वाल में 63, देहरादून जिले में 266, रुद्रप्रयाग में 6, हरिद्वार जिले में 77, ऊधमसिंह नगर में 1190, नैनीताल में 710, चंपावत में 43, बागेश्वर में 20, अल्मोड़ा में 122 एवं पिथौरागढ़ जिले में 243 कार्ड धारकों ने अपात्र की श्रेणी में आ चुके अपने—अपने राशन कार्ड विभाग में जमा कर दिये हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार संबंधित अधिकारियों को शासन स्तर पर अपात्र लोगों के राशन कार्ड जल्द से जल्द जमा करवाने के आदेश जारी किये गये हैं। इस हेतु अलग से जागरूकता अभियान भी चलाया जायेगा।

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here