अल्मोड़ाउत्तराखंड

अल्मोड़ा न्यूज: प्रसिद्ध जागेश्वरधाम में जल्द ही मिलेगी श्रद्धालुओं को धर्मशाला की सुविधा, जागेश्वर में हरित शवदाह गृह और चितई में अतिरिक्त टैंक निर्माण को होगा आगणन, डीएम ​ने दिए निर्देश

सीएनई रिपोर्टर, अल्मोड़ा
प्रसिद्ध जागेश्वरधाम में श्रद्धालुओं को जल्द ही धर्मशाला की सुविधा मिलेगी। वहीं जटागंगा की स्वच्छता के लिए हरित शवदाह गृह बनाने प्रयास शुरू हो गए हैं। यह बात जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया ने मंदिर प्रबंधन समिति की बैठक में कही। उन्होंने चितई गोलू मंदिर में एक अतिरिक्त पेयजल टैंक बनाने का आगणन प्रस्तुत करने के भी निर्देश दिए हैं।
जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया के अध्यक्षता में यहां कैम्प कार्यालय में आयोजित जागेश्वर मंदिर प्रबन्धन समिति की बैठक में जागेश्वर मंदिर में बाहर से आने वाले पर्यटकों व श्रद्धालुओं की सुविधाओं से संबंधित मसलों पर मंत्रणा हुई। जिसमें तय हुआ कि इसी माह से जागेश्वर में श्रद्धालुओं के लिये धर्मशाला का निर्माण शुरू हो जाएगा। धर्मशाला निर्माण के लिए आरईएस से आगणन भी करा लिया गया है। जिलाधिकारी ने धर्मशाला के निर्माण के संबंध में आवश्यक निर्देश भी दिए। उन्होंने जटागंगा नदी को स्वच्छ बनाए रखने के लिये हरित शवदाह व्यवस्था का आगणन तैयार कर शीघ्र शासन को प्रेषित करने के निर्देश दिये। डीएम ने केएमवीएन द्वारा निर्मित आडिटोरियम को मंदिर समिति के कार्यालय व अन्य प्रयोजन के लिये प्रयोग करने की अनुमति प्रदान की। उन्होंने मंदिर समूह के पीछे देवदार वन के संरक्षण के लिए वन विभाग से समन्वय स्थापति कर उसमें तारबाड़ करने, मंदिर समूह में लगे सीसीटीवी कैमरों व सोलर लाईटों के तारों को भूमिगत करने के निर्देश भी दिये। कोविड—19 को देखते हुए तय किया गया कि इस वर्ष जागेश्वर महोत्सव के द्वितीय संस्करण का जागेश्वर महोत्सव सूक्ष्म रूप में 30 दिसम्बर को आयोजित होगा। इसमें योगा, मैराथन, साईकिल रेस के अलावा जटागंगा आरती, हैरिटेज वाॅक आदि कार्यक्रम होंगे।
उक्त बैठक के साथ ही जिलाधिकारी ने चितई गोलू मंदिर प्रबन्धन समिति की बैठक भी ली। जिसमें उपजिलाधिकारी सदर को निर्देश दिए कि मंदिर में पेयजल के लिए अतिरिक्त टैंक बनाने का आगणन प्रस्तुत किया जाए। उन्होंने चितई में नवनिर्मित शौचालय में स्वच्छक रखने की सहमति प्रदान की। साथ ही मंदिर परिसर से कूड़ा निस्तारण के लिए उपलब्ध वाहन के संचालन पर चर्चा हुई। जिलाधिकारी ने उपजिलाधिकारी को मंदिर का निरीक्षण करने और स्थानीय लोगों से चर्चा कर अन्य सुविधायें उपलब्ध कराने के निर्देश दिये। बैठक में सीडीओ नवनीत पाण्डे, एसडीएम सदर सीमा विश्वकर्मा, मोनिका, पर्यटन विकास अधिकारी राहुल चौबे, अधिशासी अभियन्ता ग्रामीण निर्माण विभाग नितिन पाण्डे, अधिशासी अभियन्ता जल निगम केडी भट्ट, आपदा प्रबन्धन अधिकारी राकेश जोशी, प्रबन्धक जागेश्वर मंदिर समिति भगवान भट्ट समेत समिति के अन्य लोग शामिल हुए।

Leave a Comment!

error: Content is protected !!