अल्मोड़ा में महासभा का धरना, दोषी अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई को उठी आवाज

1

📰 खबरों के लिए जुड़े व्हाट्सप्प ग्रुप से 👉 Click Now 👈

सीएनई रिपोर्टर, अल्मोड़ा
उत्तराखंड वाल्मिकी कल्याणकारी महासभा की जिला व नगर इकाईयों ने संयुक्त रूप से यहां गांधी पार्क पर धरना दिया। उनकी मांग है कि हाथरस कांड में दोषी जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक समेत अन्य अधिकारियों को निलंबित कर उनके​ खिलाफ एससी—एसटी एक्ट के तहत मुकदमा चलाया जाए।
यहां पूर्वाह्न 11 बजे से लेकर अपराह्न 5 बजे तक यह धरना चला। इसमें हाथरस कांड के​ खिलाफ नारेबाजी की गई। वक्ताओं ने कहा कि रात बिना परिजनों की सहमति के ही मृतका के शव को पेट्रोल व मिट्टी का तेल डालकर जला दिया गया। जो वाल्मिकी समाज व हिदू समाज के परंपराओं के​ खिलाफ है। इसकी कड़े शब्दों में निंदा की गई। उन्होंने मनीषा के बलात्कारियों को फांसी की सजा देने, दोषी सभी अ​फसरों को निलंबित कर उनके खिलाफ मुकदमा चलाने की पुरजोर मांग की। धरना स्थल पर नारेबाजी भी हुई। बाद में उक्त मांगों का ज्ञापन राष्ट्रपति को भेजा गया। धरने में महासभा के प्रदेश अध्यक्ष एके सिकंदर पवार, यशवंत सिम्मल, विशाल चंदेल, विनय शैलानी, प्रदीप कुमार, आकाश महिवाल, ऋषभ पवार, शुभम, राज, बादल, संजू, अंकित, विनीत, कुलदीप, सौरभ, सुमित, अभिषेक, रोहित व मनोज आदि कई लोग शामिल हुए।

Previous articleसोमेश्वर : लोद में गोष्ठी, वन्य जंतुओं की सुरक्षा का आह्वान
Next articleरामनगर : हाथरस पीड़िता को न्याय दिलाने के लिए सड़कों पर उतरा वाल्मीकि समाज

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here