सीएनई रिपोर्टर

तालिबान के बढ़ते प्रभाव से अफगानिस्तान लगातार कमजोर पड़ने लगा है। बताया जा रहा है ​कि तालिबान ने Northern Afghanistan के एक जनपद पर अपना कब्जा भी जमा लिया है। जिसके बाद उन्होंने पहला फरमान स्थानीय इमाम को जारी कर दिया है।

फरमान में अब नए दिशा—निर्देश जारी किये गये हैं। जिसमें कहा गया है कि कोई भी महिला बिना किसी घर के मर्द के अकेले बाहर नही निकल सकती। पुरुषों को दाढ़ी रखनी अनिवार्य है। सिगरेट, बीड़ी पीने पीना पूरी तरह प्रतिबन्धित है। साथ ही लड़कियों की शादी तालिबानी लड़कों के साथ करने को भी कहा गया है। जिसमें एक सूची मांगी गई है। यह बताने को कहा गया है कि जिले में 15 से अधिक आयु की कितनी लड़कियां हैं। साथ ही पूछा गया है कि 45 से कम उम्र की कितनी विधवा औरतें हैं। ताजा खबरों के लिए WhatsApp Group को जॉइन करें 👉 Click Now 👈

ज्ञात रहे कि क्षेत्र से अमेरिकी और nato soldiers की वापसी के बाद तालिबान तेजी से पांव पसार रहा है। जिलों और देश की प्रमुख सीमाओं पर कब्जा किया जा रहा है और provincial capital की घेराबंदी शुरू हो चुकी है। जहां भी तालिबान पहुंच रहा है, वहां इस्लामी शासन कठोरता से लागू कर रहे हैं।

👉👉  ताजा खबरों के लिए WhatsApp Group को जॉइन करें 👉 Click Now 👈

वाराणसी में मोदी ने किया 1583 करोड़ की विकास योजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास

यह भी उल्लेखनीय है कि विगत माह Taliban ने एक उत्तरी सीमा शुल्क चौकी शिर खान बंदर पर कब्जा कर लिया था। पंज नदी पर Afghanistan को Tajikistan से जोड़ने वाले american built bridge पर यह चौकी स्थित है। ताजा खबरों के लिए WhatsApp Group को जॉइन करें 👉 Click Now 👈

Uttarakhand : कोतवाली में तैनात सिपाही ने दोस्त के साथ मिलकर किशोरी से किया दुष्कम, दोनों गिरफ्तार, सिपाही को बर्खास्त करने की कार्रवाई

एक फैक्टरी में काम करने वाली सजदा ने न्यूज एजेंसी एएफपी को बताया कि शिर खान बंदर पर कब्जा करने के बाद Taliban ने महिलाओं को अपने घरों से बाहर नहीं निकलने का आदेश जारी किया हैं।
सजदा ने बताया कि कई महिलाएं और युवा लड़कियां कढ़ाई, सिलाई और जूता बनाने का काम कर रही थीं, लेकिन तालिबान के आदेश से अब वे सब डरी, सहमी हुई हैं।

Uttarakhand : सीएम धामी ने नियुक्त किये दो नए पीआरओ, जारी हुए आदेश

ज्ञात रहे कि तालिबान ने 1996 से 2001 तक Afghanistan पर शासन किया था। उस दौरान महिलाओं को घर के अंदर रहने का आदेश था, जब तक कि कोई पुरुष रिश्तेदार साथ न हो, उन्हें बाहर निकलने की इजाजत नहीं थी। ताजा खबरों के लिए WhatsApp Group को जॉइन करें 👉 Click Now 👈

Uttarakhand : छुट्टी मनाने आये थे, पहुंच गये हवालात, पर्यटकों को बहुत महंगा साबित हुआ RTPCR की fake report लेकर उत्तराखंड आना, पढ़िये पूरी ख़बर….

लड़कियों को school जाने की अनुमति नहीं थी, और व्यभिचार जैसे अपराधों में दोषी पाए जाने वालों को मौत के घाट उतार दिया जाता था। तालिबान न्यूयॉर्क में World Trade Center पर 9/11 हमले के बाद America के निशाने पर आया था। अब जब एक बार फिर तालिबान Afghanistan में कब्जा जमाने लगा है तो फिर एक बार तालिबानी शासन की कड़वी यादें ताजा होने लगी हैं।

अन्य खबरें

कैबिनेट की मंजूरी, कर्मचारियों का डीए, डीआर बढ़कर हुआ 28 प्रतिशत

अब कानून की धारा 66 ए के तहत मुकदमा दर्ज नहीं करेगी पुलिस, पिछले दर्ज सभी मुकदमे होंगे वापस : गृह मंत्रालय

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here