• नंदादेवी महोत्सव के तहत भव्य सांस्कृतिक जुलूस निकाला
  • स्कूली बच्चों की प्रतिभा ने आयोजन पर लगाए चार चांद

सीएनई रिपोर्टर, अल्मोड़ा
सांस्कृतिक नगरी में आज संस्कृति की छटा बिखरी। नंदादेवी महोत्सव के कार्यक्रमों की श्रृंखला में भव्य बहुरंगी सांस्कृतिक शोभायात्रा निकली। जिसमें विविध स्कूलों के बच्चों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और शहर में संस्कृति की बयार बहा दी।

सांस्कृतिक जुलूस के लिए पहले विभिन्न सांस्कृतिक टोलियां सज-धज कर परंपरानुसार यहां जीजीआईसी के निकट ड्योड़ीपोखर पर एकत्रित हुए, जहां चंद राजाओं की कुलदेवी का मंदिर स्थित है। यहां से मुख्य विकास अधिकारी अंशुल सिंह ने सांस्कृतिक जुलूस का उद्घाटन किया। विभिन्न सांस्कृतिक दल गीत गाते, नाचते-थिरकते और करतब दिखाते आगे बढ़े। इस मनोहारी नजारे ने नगर में सांस्कृतिक बयार बहा दी। सांस्कृतिक टीमें में अपनी अपनी प्रस्तुतियों का प्रदर्शन करते बढ़ रहे थे। कहीं घोष स्तुति ने समां बांधा, तो कहीं छोलिया नर्तकों ने अपनी ओर ध्यान खींचा। वहीं दैणा होया पंचनाम देवा, हे नंदा भवानी, जय मां नंदा सुनंदा, रूपसा रे मोती घुंघुर नि बजा छमाछम आदि विविध गीत व करतब आकर्षण का केंद्र रहे। यह सांस्कृतिक जुलूस मुख्य बाजार मार्ग होते हुए नंदादेवी मंदिर परिसर में पहुंचकर संपन्न हुआ। इस मौके पर नंदादेवी मंदिर कमेटी के अध्यक्ष मनोज वर्मा, मुख्य संयोजक मनोज सनवाल, मुख्य सांस्कृतिक संयोजक तारा चंद्र जोशी, सह सांस्कृतिक संयोजक परितोष जोशी, मीडिया प्रभारी अमरनाथ सिंह नेगी, संरक्षक धन सिंह मेहता, जीवन नाथ वर्मा, राज परिवार से राजा भैया, किशन गुरुरानी, दिनेश गोयल, रवि गोयल आदि तमाम लोग मौजूद रहे।
ये विद्यालय रहे शामिल




सरस्वती शिशु मंदिर जीवनधाम, विवेकानंद इंटर कालेज, एडम्स इंटर कालेज, पाइन वुड स्कूल, साई कांवेंट जूहा नरसिंहबाड़ी, अल्मोड़ा इंटर कालेज, जीजीआईसी अल्मोड़ा, रैमजे इंटर कालेज, महर्षि विद्या मंदिर, वियरशिवा स्कूल, ग्रीन फील्ड स्कूल, सेंट एग्नेस जू.हा., मिनरूवा स्कूल, एनबीयू स्कूल, केडी मेमोरियल स्कूल, प्रा.वि. बल्टा, विक्टर मोहन जोशी जीजीआईसी।
कदली वृक्षों को निमंत्रण

मां नंदा-सुनंदा की मूर्तियों के निर्माण के लिए कदली वृक्षों को निमंत्रित करने की परंपरा निभाई गई। इस बार कर्नाटकखोला स्थित कमलेश कर्नाटक के आवास से कदली के खाम लाने का निर्णय लिया गया। इसके लिए मंदिर समिति से शोभायात्रा के रूप में दल छोलिया नृतकों, ढोल, नगाड़े व निशाणों के साथ कर्नाटकखोला पहुंची। जहां राज पुरोहित नागेश पंत, मंदिर के पुजारी तारा दत्त जोशी ने कदली वृक्षों की विधिवत पूजा-अर्चना की और उन्हें निमंत्रित किया। अब कल भव्यता के साथ इन कदली के खामों को नंदादेवी मंदिर में लाया जाएगा।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here