सीएनई डेस्क

बहुत खतरनाक होते हैं किंग कोबरा (King Cobra) सांप

नाग को मारने से क्या होता है, क्या नागिन नाग के मारे जाने पर बदला लेती है ! इस सवाल का वैज्ञानिकों के पास शायद कोई उत्तर नहीं है। काफी लोग इसे सिर्फ किस्सेबाजी से जोड़कर देखते हैं। इसके बावजूद उत्तर प्रदेश के बुंदेलखंड में एक ऐसी घटना हो गई है, जिसने पूरे इलाके में सनसनी फैला दी है। यहां एक ऐसे व्यक्ति की मौत सांप के काटने से हो गई, जिसने मात्र एक रोज पहले ही नाग को मारकर नाग—नागिन के जोड़े को अलग कर दिया था।


कमालपुर गांव में हुई युवक की मौत

जानकारी के मुताबिक महोबा के कुलपहाड़ कोतवाली इलाके में यह अनोखी घटना हुई है। यहां कमालपुर गांव में प्रदीप कुमार के घर लोगों की भीड़ जमा है। उसकी की मौत सांप के काटने से हुई है। बताया जा रहा है कि सावन मास में नाग नागिन का जोड़ा पड़ोसी के घर में दिखाई दिया था, जिनमें से एक को प्रदीप ने लाठी से पीट—पीटकर मार डाला था।

यह था पूरा घटनाक्रम —

दरअसल, रमेश राजपूत के घर में दो सांपों को देख रमेश की पत्नी ने शोर मचा दिया था। फिर तमाम लोगों की भीड़ यहां जमा हो गई। इसी बीच उनके पड़ोस का लड़का प्रदीप कुमार 24 साल पुत्र बच्ची लाल लाठी लेकर रमेश राजपूत के घर पहुंचा। फिर उसने पीट-पीटकर एक सांप को मार डाला, जो नाग था। इसके बाद रात को वह अपने घर जाकर सो गया। जब काफी देर तक वह नहीं उठा तो परिजन उसके कमरे में पहुंचे। वहां उन्होंने पाया कि प्रदीप बेसुध पड़ा है और उसे सांप ने डसा है। जिसके बाद वह उसे निकटवर्ती अस्पताल ले गये, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

परिजन, ग्रामीणों का दावा ‘नागिन ने लिया बदला’

प्रदीप के परिजन और ग्रामीण यह दावा कर रहे हैं कि नाग को मारने की वजह से नागिन ने अपना बदला प्रदीप को डस कर लिया है। बताया जा रहा है कि नाग को मारने के बाद नागिन की तलाश की गई थी, लेकिन वह किसी को नहीं मिली।

चिकत्सकों ने कहा ”विज्ञान ऐसी चीजों को नहीं मानता”

उधर महोबा जिला अस्पताल के चिकित्सकों के अनुसार विज्ञान ऐसी चीजों को नहीं मानता है। उन्होंने कहा कि सांप के नेत्र इतने कमजोर होते हैं कि वह अपने शिकार तक को ठीक से देख नहीं पाते। ऐसे में कोई नागिन अपना बदला ले, ऐसा संभव नहीं है। चिकित्सकों का कहना है कि शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। रिपोर्ट आने पर ही मौत की सही वजह पता चल सकेगी।

पहले भी हुई हैं ऐसी घटनाएं

नाग को मारे जाने के बाद नागिन के बदले जैसी घटना यह पहली नहीं है। इससे पहले भी देश के विभिन्न हिस्सों में इस तरह के मामले सामने आये हैं। याद दिला दें कि अप्रैल 2022 को मध्य प्रदेश के सीहोर के जोशीपुर में ऐसी ही घटना हुई थी। जहां 12 साल के रोहित की सर्पदंश से मौत हुुई थी। घटनाक्रम के अनुसार गांव में किशोरी लाल नाम के एक व्यक्ति के घर चैत्र नवरात्रि में एक सांप आ गया। जिसे किशोरीलाल और उनके परिजनों ने जान से मार दिया था। यहां भी अगले ही रोज घर में सो रहे किशोरी लाल के बेटे रोहित को एक सांप ने डस लिया था। जिसके बाद रोहित की मौत भोपाल ले जाते वक्त हो गई थी। तब भी यह मामला मीडिया की सुर्खियों में रहा था।

अक्टूबर, 2017 में कानपुर में भी ऐसी ही घटना हुई थी। यहां चौबेपुर (बिल्हौर) इलाके में किशुनपुर गांव में एक महिला उमा पत्नी सुरेश यादव की मौत सांप के काटने से हुई थी। यहां भी एक रोज पूर्व ही मृत महिला के परिजनों ने घर में ही निकले एक नाग को मारा था। यह मामला भी बहुत चर्चा में आया था। ऐसे ही बहुत से मामले समय—समय पर सामने आते रहे हैं।

पढ़िये, क्या कहते हैं जानकार ?

सर्प विशेषज्ञों का इस मामले में कहना है कि अकसर बारिश के मौसम में सांप, जिनमें नाग—नागिन भी शामिल हैं प्रजनन के लिए अपने—अपने बिलों से बाहर निकल आते हैं। अकसर सावन मास में लोग नाग-नागिन को आपस में लिपटे देखते हैं। वैज्ञानिक खोजों में पता चला है कि इस दौरान इनके बीच फेरामोन नामक एक ऐसा रासायनिक पदार्थ बनता है, जिसकी गंद से नाग और नागिन एक—दूसरे के करीब पहुंच जाते हैं। इस दौरान यदि कोई नाग या नागिन को मार दे तो यह भी संभव है कि जिंदा बचा उसका पार्टनर सांप रासायनिक पदार्थ की गंद से सांप मारने वाले लोगों तक पहुंच जाये। होता यह है कि जिस लाठी या डंडे से सांप को मारा जाता है, उसमें फेरामोन की गंध रह जाती है। जिसे तलाशते हुए अन्य सांप भी वहां तक पहुंच जाते हैं। अकसर देखा गया है कि यदि लोग सांप मारने वाला हथियार अपने पास रख लेते हैं तो अन्य सांप भी उस तक पहुंच जाया करते हैं। अतएव कुछ सर्प विशेषज्ञों का कहना है कि यदि सांप को किसी लाठी से मार दिया है तो उस लाठी को अपने घर या बिस्तर के पास कतई न रखें। जो गंध इंसानी नाक नहीं सूंघ सकती उसे सांप आसानी से महसूस कर लेते हैं।

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here