• मेला संचालन को विभिन्न समितियों का गठन
  • मेले को पॉलीथीन व नशा मुक्त बनाने पर जोर

सीएनई रिपोर्टर, गरुड़ बागेश्वर
इस बार ऐतिहासिक कोट भ्रामरी मेले में पौराणिक एवं लोक संस्कृति की झलक देखने को मिलेगी। मेले को भव्य रूप देने के लिए विभिन्न समितियों का गठन किया गया।

विकासखंड सभागार में ब्लाक प्रमुख हेमा बिष्ट की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में मेला कमेटी के निवर्तमान अध्यक्ष शिव सिंह बिष्ट ने पुरानी कार्यकारिणी भंग की। उन्होंने कहा कि कोरोनाकाल के दो साल बाद मेला आयोजित हो रहा है। इसकी भव्यता और सफल संचालन के लिए सभी को मिलकर आगे आना होगा। मेलाधिकारी व उप जिलाधिकारी राजकुमार पांडे ने कहा कि मेले की ऐतिहासिकता एवं पौराणिकता का ख्याल रखते हुए सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित होंगे।जिसमे स्थानीय लोक कलाकारों के साथ-साथ स्कूली बच्चों को भी मौका दिया जाएगा। कहा कि मेले में सिंगल यूज प्लास्टिक व पॉलीथीन का प्रयोग कदापि नहीं होगा। उन्होंने सभी से मेले में बाहर से आने वाले व्यापारियों को अवगत कराने को कहा। अध्यक्षता करते हुए ब्लाक प्रमुख हेमा बिष्ट ने कहा कि इस बार मेले को यादगार बनाया जाएगा।उन्होंने सभी से सहयोग करने की अपील की। इस मौके पर दर्जनों लोगों को जिम्मेदारी देकर मेले की विभिन्न समितियों का गठन किया गया।


मेला समिति के लिए ब्लाक प्रमुख को पदेन अध्यक्ष, डंगोली व मेलाडुंगरी के ग्राम प्रधान को पदेन उपाध्यक्ष बनाया गया। संचालन नंदन अल्मिया ने किया। इस दौरान जिपंस जनार्दन लोहुमी, ज्येष्ठ प्रमुख बहादुर सिंह कोरंगा, घनश्याम जोशी, डॉ हेम चंद्र दुबे, भुवन पाठक, जेसी आर्या, बबलू नेगी, इंद्र सिंह बिष्ट, देवेंद्र गोस्वामी, सुनील दोसाद, नवीन खोलिया, बलवंत भंडारी, पंकज कनसेरी, विनोद काण्डपाल, नंदन सजवाण, केदार सिंह बोरा, गोपाल सिंह बरोलिया, मंगल राणा, अभय नेगी,नवीन ममगाई, ईश्वर सिंह परिहार, लक्ष्मण आर्या, दयाकृष्ण जोशी, गोदावरी आर्या, बबीना देवी, हेमा पंत, नीतू आर्या आदि मौजूद थे।

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here