देहरादून। वर्तमान में सम्पूर्ण विश्व कोरोना महामारी के से जूझ रहा है व महामारी से लड़ने के लिए खुद को अनुकूल बनाने का प्रयास कर रहा है। महामारी ने दैनिक जीवन के हर क्षेत्र को प्रभावित किया है। इस महामारी का प्रभाव दिव्यांगों पर अत्यधिक पड़ा है। विषय की गंभीरता को देखते हुए उत्तराखंड विज्ञान शिक्षा एवं अनुसन्धान केंद्र (युसर्क) व समर्थनम ट्रस्ट के संयुक्त तत्वाधान में एक वेबिनार ” कोविड-19: चुनौतियां एवं अवसर मुख्यतः विशेष जरुरत वाले लोगों के सन्दर्भ में” विषय पर आयोजित किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि विकासनगर के विधायक मुन्ना सिंह चौहान थे। कार्यक्रम के प्रारम्भ में युसर्क के निदेशक प्रोफ दुर्गेश पंत ने राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर जुड़े समस्त विशेषज्ञों एवं प्रतिभागियों का स्वागत करते हुए बताया की युसर्क निरंतर “पीपल विद स्पेशल नीड्स”‘ जनों के लिए विभिन्न विषय केंद्रित कार्यक्रमों का आयोजन करता रहता है । कार्यक्रम के मुख्य अतिथि विधायक मुन्ना सिंह चौहान ने अपने सम्बोधन में इस प्रकार के कार्यक्रमों की आयश्यकता पर बल देते हुए कहा की दिव्यांगजनों को कोविड-19 के समाय में विशेष सहयोग प्रदान करते हुए उन्हें सोशल डिस्टन्सिंग, मास्क के साथ—साथ तकनीकी रूप से भी सक्षम बनाया जा सकता है। दिव्यांगजनों हेतु दीर्घकालीन नीति के आधार पर कार्य करते हुए इस कोरोना काल में विभिन्न प्रकार की चुनौतियों के समाधान हेतु कार्य करने की आवयश्कता है । समर्थनम ट्रस्ट के जी के महंतेश ने ट्रस्ट दवरा किये जा रहे कार्यों पर प्रकाश डालते हुए कहा विभिन्न विभागों द्वारा कोविड योद्धाओं के के माध्यम से भी दिव्यांगजनों के लिए महत्वपूर्ण सहयोग प्रदान किया गया है । संतोष कुमार रूंगटा ने कहा की दिव्यांगजनों हेतु विशेष नीति के तहत कार्य करने की आवयश्कता है। कार्यक्रम के मोरेटर युवराज सिंह ने कहा की दिव्यांगजनों के लिए ऐसी तकनीक की जरूरत है। जो इनको सहयोग प्रदान कर सके। प्रशांत वर्माने दिव्यांगजनों की शिक्षण व्यव्स्था को और साधारण बनाने को कहा।
दिव्यांग सलाहकार डॉ. राजेंद्र ने दिव्यांगजनों को सशक्त बनाते हुए उनको आर्थिक एवं सामाजिक रूप से आजीविका में सहायता प्रदान करने की आवश्यकता पर संबोधित किया। सीनियर मेनेजर आमिर थापा (सीएम) ने नेपाल से जुड़ते हुए कहा की चौधरी फाउंडेशन दिव्यांगजनों के उत्थान एवं कोविड महामारी में पुनर्वास और आजीविका सुधार हेतु कार्य कर रहा है।
दिव्यांगजनों के सशक्तिकरण हेतु कार्य कर रही डॉ. सुजाता सिन्हा ने कहा कि कोरोना काल में सामाजिक दूरी के साथ –सस्थ उनकी आजीविका एवं स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देते हुए गंभीरता से कार्य करने की आवश्यकता है। कार्यक्रम में युसर्क के वैज्ञानिक डॉ भवतोष शर्मा, डॉ. मंजू सुन्द्रियाल,डॉ. ओमप्रकश नौटियाल, डॉ. राजेन्द्र सिंह राणा, उमेश, ओमप्रकाश और राजदीप द्वारा विशेष सहयोग प्रदान करते हुए कार्यक्रम आयोजित किया गया। नरेश नयाल, प्रज्ञा भारद्वाज, अनुराधा ध्यानी, शिवराम देशपांडे सहित पूरे कार्यक्रम में 120 से अधिक प्रतिभागियों द्वारा ऑनलाइन प्रतिभाग किया गया। युसर्क के निदेशक प्रोफेसर दुर्गेश पन्त ने कार्यक्रम में शामिल हुए मुख्य अतिथि, विशेषज्ञों सहित सभी का धन्यवाद किया। कार्यक्रम का संयोजन एवं समन्वयन यूसर्क के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. मंजू सुंदरियाल ने किया।

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here